300 हिंदी मॉडल पेपर | MP उच्च/माध्यमिक/प्राथमिक भर्ती की पात्रता परीक्षा के लिए

अगर आप मध्यप्रदेश शिक्षक भर्ती की तैयारी कर रहे हैं तो आपको नीचे दिए 300 हिंदी के प्रश्नों को रट लेना चाहिए क्योकि यह प्रश्न आपको बहुत काम आ सकते हैं. यह प्रश्न हमने विशेषतः मध्यप्रदेश उच्च/माध्यमिक/प्राथमिक भर्ती की पात्रता परीक्षा के लिए तैयार किये हैं.

300 हिंदी मॉडल पेपर | MP उच्च/माध्यमिक/प्राथमिक भर्ती की पात्रता परीक्षा के लिए

1.लोक और आलोक कृति है केदारनाथ की.
2.विमला नामक टीका किसने लिखी -शालग्राम.
3.मुक्तिमार्ग के लेखक है भारतभूषण अग्रवाल.
4.इतिहास के आँसू रचना के लेखक है- दिनकर.
5.हिन्दी भाषा मे काम करने वाले प्रथम कम्प्यूटर था- सिद्धार्थ.
6.तंत्रालोक के रचनाकार-भिनव गप्त.
7.एकावलीग्रंथ के रचयिता-विद्याधर.
8.प्रबंध काव्य को भाविकअलंकार नाम  दिया दण्डी ने.
9.विनोवा-स्तवन  की रचना की बालकृष्ण शर्मा ने.
10.विधवा विवाह पर आधारित उपन्यास -प्रेमा.
11.अलंकार को काव्य की आत्मा माना-भामह.
12. भऱमरगीत का प्रसंग आया है-कृष्ण गीतावली में.
13.तुलसीदास को कलिकाल का वाल्मीकि कहा था- नाभादास.
14.प्रभातफेरी काव्य के रचनाकार -नरेन्द्र शर्मा.
15.अकाल और उसके बाद कविता के रचना की – नागार्जुन.
16.विधवा विवाह के सम्बन्ध में पुस्तक सत्यप्रकाश के लेखक है – करसनदास.
17.हिंदी संसार का सर्वाधिक प्रसिद्ध शोकगीत है- सरोज स्मृति.
18.शकुन्तला नाटक है राजा लक्षमण सिंह.
19.हल्दीघाटी  रचना है-शयाम नारायण पाण्ड्य.
20.अनल कवि ‘ के नाम से प्रसिद्ध कवि- रामधारी सिहं दिनकर.
21.हरीजन गाथा रचना है -नागार्जुन.
22.इगरूल विधि है- अवलोकन .
23जीरो रोड सम्बन्धित है -नासिरा शर्मा.
24खड़ी बोली का अरबी-फारसी मय रूप है- उर्दू.
25.अपभ्रंश भाषा के प्रथम व्याकरणाचार्य थे- हेमचंद्र.
26समान्तर कहानी के प्रवर्तक -कमलेश्वर.
27जरासंध वध महाकाव्य  रचना है- गोपालचन्द्र गिरिधरदास.
28सदगति’ कहानी के  हैं-प्रेमचंद.
29शिवशम्भू का चिट्ठा रचना है-बालमुकुन्द गुप्त.
30दिल्ली का दलाल  उपन्यास लिखा- उग्र ने.
31कीर्तिलता रचना है अवहट्ट भाषा की.
32वाक्यम् रसात्मक् काव्यम  कथन है-आचार्य विश्वनाथ.
33अपभ्रंश शब्द का प्रयोग किया- पतंजलि.
34सहज प्रकाश लिखी है सहजोबाई.
35.स्वर की सहायता से बोले जाना वाला वर्ण है- व्यंजन.
36.वर्णो के समहू को कहते है-वर्णमाला.
37.जिनके उच्चारण में श्वास का अधिक समय लगता है कहलाते है- महाप्राण.
38. अल्पप्राण से सम्बंधित है -क ओर ग.
39. प्रकम्पित व्यंजन है- र.
40. नासिक्य व्यंजन में है- न
41. ध्वनि की सबसे छोटी इकाई है -अक्षर.
42 य है -अन्तःस्थ व्यंजन.
43.सम्प्रदाय तत्पुरुष है- यज्ञशाला.
44. पूर्वपद विशेषण होता है -कर्मधारय समास में.
45.अंक का अनेकार्थी है- संख्या.
46 वर्ण माला की संख्या है- 52.
47.हिंदी में वर्ण होते हैं-2
48.साहित्य जन-समूह के हृदय का विकास है -बालकृष्ण भट्ट.
49.नन्द दुलारे वाजपेई की  निबंध रचना है नये प्रश्न नया साहित्य.
50अभिनव जयदेव कहा जाता है- विद्यापति.
51.हिन्दी साहित्य के पितामह भारतेन्दु हरिश्चंद्र.
52.वीर रस प्रधान रचना मे गुण होता है-ओज.
53.रघुवीर सहाय की पत्रिका है -दिनमान.
54.कुँवर नारायण को पद्म भूषण दिया गया- 2009.
55.रघुवीर सहाय किस सप्तक के कवि थे -दूसरा सप्तक.
56.गीत गाने दो मुझे रचना है -निराला.
57.द्वैतवाद का प्रवर्तन किसने किया था.
58.स्वामी आनंद तीर्थ का अन्य नाम मध्वाचार्य भी है.
60.स्वर्गीय वीणा कृति है – श्री धर पाठक.
61.कृष्ण रामायण  लिखी हैं – घनारंग दुबे.
62.नक्षत्र कविता है -सुमित्रा नन्दन पंत.
63.नलनरेश महाकाव्य 19 सर्गो मे रोला ओर हरिगीतिका छंद मे  लिखा -प्रतापनारायण.
64.असफल प्रेम की प्रतिक रचना है -ग्रंथि
65.धूल की ढेरी मे अनजान छिपे है मेरे गान
पंक्ति  है- सुमित्रा नन्दन पंत.
66.विषपायी’ के रचनाकार है- बालकृष्ण शर्मा
67.सिद्ध-साहित्य’ के सम्पादन का कार्य किया था -बेंडल.
68.श्रृंगारिकता लक्षण ग्रन्थ , आदि किस प्रकार के काव्य की विशेषताएँ है- रीतिकाल.
69.प्रमुख रीतिमुक्त कवि है- घनानन्द.
70.रीति निरुपण प्रवृति को  भागों में बाँटा गया है -तीन.
71.निस्सहाय हिन्दू उपन्यास है- राधाकृष्ण दास  का.
72.कुंकुंम कविता संग्रह है -बालकृष्ण शर्मा का.
73.नूरजहाँ प्रबंधकाव्य है -गुरुभक्त सिह.
74.मधुकण प्रेम कल्पना  कविता संग्रह है- भगवतीचरण वर्मा.
75.आत्मोत्सर्ग ,अनाथ. किसके कविता संग्रह है- सियारामशरण गुप्त.
76.रुपराशी ,चंद्रकिरण. कविता सम्बन्धित हैं -रामकुमार वर्मा.
77.कलापी है -आर सी प्रसाद की कविता.
78.प्रणभंग. किसकी पहली रचना है-दिनकर.
79.पुरानी हिंदी मानने वाले आलोचक का नाम -चंद्रधर शर्मा गुलेरी.
80.मानसी ,काव्य, रामा, कविता किसकी है- उदयशंकर भट्ट.
81.मधुलिका अपराजिता  कविता संग्रह है-अंचल.
82.कर्णफूल, शिशफूल रचना है- नरेन्द्र शर्मा.
83.कोई दूसरा नही” कविता  है -कुँवर नारायण.
84.कही नही वह”कविता कृति है-अशोक वाजपेयी.
85.दीवार मे एक खिड़की रहती थी ” उपन्यास है-विनोद कुमार शुक्ल.
86.शिवप्रसाद सिह से संबंधित है नीला चाँद.
87.अरण्य” कविता लिखी हैं- नरेश महता.
88.हम जो देखते है कविता -मंगलेश डबराल.
89.हालावाद के प्रवर्तक- हरिवंश रॉय बच्चन.
90.छायावाद के प्रवर्तक है-मुकुटधर पाण्डेय.
91.स्वच्छन्दतावाद  प्रवर्तक है-श्रीधर पाठक.
92.शमशेर मूड्स के कवि है किसी विजन के नही कहा था- मलयज ने.
93.विरुद्धों का सामंजस्य कर्मक्षेत्र का सौन्दर्य है कहा था- रामचन्द्र शुक्ल.
94.निराला के अध्यात्म गुरू थे- विवेकानन्द.
95.निराला कृत ‘तुलसीदास ‘किस प्रकार का काव्य है- प्रबंध काव्य.
96.रामचरित मानस का प्रारम्भ तुलसी ने कहा किया था- अयोध्या.
97.तुलसी की गीतावली किस कवि की रचना से प्रभावित है- सूरदास.
98.जाके प्रिय न राम वैदेही’ पद किस रचना मे से है- विनयपत्रिका.
99.छन्दों का अजायब घर क कहा जाता है- पृथ्वीराज रासो.
100.बीजक मेँ किस कवि की रचनाएं संकलित है- कबीरदास.
101.सन्त कवियोँ मेँ सर्वाधिक शिक्षित कवि कौन थे-सुन्दरदास.
102.साखी,सबद,रमैनी रचनाएं है -कबीर.
103.चन्द्रकान्ता उपन्यास है बाबू देवकीनन्दन खत्री.
104.प्रभुजी तुम चन्दन हम पानी यह पंक्ति है रैदास.
105.दुलहिनी गावहु मंगलचार पंक्ति किस कवि की है -कबीर.
106.छायावादी गोरखनाथ कहा जाता है -निराला.
107.कबीर को वाणी का डिक्टेटर कहा है- हजारी प्रसाद द्विवेदी.
108.अजगर करै न चाकरी पंछी करै न काम पंक्ति किस कवि की  – मलूकदास.
109.अवधी भाषा का प्रथम महाकाव्य  ग्रंथ है- पद्मावत.
110.कुकुरमुता’ कविता में ‘गुलाब’  प्रतीक है- पूँजीपति का.
111.काहे री नलिनी तू कुम्हिलानी  पंक्ति किस कवि की है- कबीर.
112.कामायनी में सर्ग हैं- 15.
113.कृष्ण-रुक्मिणी’ का प्रेमाख्यान किस पुराण ग्रंथ मेँ है- हरिवंश पुराण.
114.अपभ्रश का वाल्मीकि -स्वयंभू.
115.डॉ. नगेन्द्र ने प्रेमाख्यानक काव्य परम्परा का पहला ग्रन्थ माना है-हंसावली.
116.खुल गए छन्द के बंध पंक्ति है- सुमित्रा नन्दन पंत.
117.वृहत्कथा के नायक है- नरवाहन.
118.निराला रचनावली कितने खंडो मे प्रकाशित हुआ- 8.
119.असादीबार,सोहिल,रहिरास, किस कवि की रचनाएं है- गुरु नानक.
120.सुखमनी के रचयिता है- गुरु अर्जुनदेव.
121.सिध्दान्त पंचमात्रा ग्रंथ के रचयिता है
-राघवानन्द.
122सुन्दर ग्रंथावली का संकलन  था- पुरोहित हरिनारायण शर्मा.
123.ज्योतिरीश्वर ठाकुर की कृति  है-वर्णरत्नाकर.
124.समाधि जोग ग्रंथ सम्बन्धित है- हरिदास निरंजनी.
125.राग दरबारी के लेखक -श्रीलाल शुक्ल.
126.हरेड वाणी के रचयिता है- दादूदयाल.
127.तत्वदीप निबन्ध के लेखक हैँ -बल्लभाचार्य.
128.बाईसवी सदी उपन्यास  है- राहुल संक्रतायन.
129.राहुल सांकृत्यायन ने हिँदी का पहला कवि माना है – सरहपाद.
130.रघुवीर सहाय की कृति को साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला- लोग भूल गए है.
131.जायसी पहले कवि हैँ, सूफी बाद मेँ कहा था – विजयदेव नारायण साही.
132.रीतिमुक्त कविता की विशेषता है -स्वच्छंदतावाद.
133.दुःखिनी बाला के लेखक -राधाकृष्ण दास.
134.प्रेमपचीसी प्रेमद्वादशी ,सप्त सरोज
आदि कहानी है प्रेमचंद की.
135.अग्निखोर अच्छे आदमी,कहानी संग्रह है -रेणु.
136.मृणाल उपन्यास की पात्र है- त्यागपत
कोर्ट मार्शल  रचना है -स्वदेश दीपक की.
137.हिम बिद्ध है जगदीश गुप्त की रचना.
138.यशपाल की है कहानी फुलो का कुर्ता.
139.रामचंद्र शुक्ल मनोवैज्ञानिक निबंध  पत्रिका में प्रकाशित हुए -नागरी प्रचारणी.
140.रामस्वयंवर कृति है रघुराज सिह की.
141.सागर मुद्रा रचना है अज्ञेय की.
142.दिल्ली;प्रगल्भ प्रेम कविता है निराला की.
143.कृष्ण रामायण है घनारंग दुबे की.
144.दोहाकोश में सिद्धों के दोहों को संकलित किया -प्रबोधचन्द्र बागची.
145.यदि मै कामायनी लिखता किसकी समीक्षात्मक करती है- सुमित्रा नन्दन पन्त की
146.अय्याश प्रेतों का विद्रोह  शीर्षक लेख पत्रिका में प्रकाशित हुआ -धर्मयुग.
147.वसुमित्रा कुमारी सिन्हा की रचना है- विहाग.
148.जीवन का जासूस कहा जाता  है- मुक्तिबोध.
149.सुघनी साहु घराने में किस कवि का जन्म हुआ था- जयशंकर प्रसाद का.
150.कोंकणी, भाषा किस लिपि में लिखी जाती है नागरी.
151.हिन्दी का पहला राजनीतिक उपन्यास -प्रेमाश्रम.
152.नागरी प्रचारणी सभा के अनुसार सूरदास के ग्रन्थो की संख्या -16.
153.विशुद्धानंद चरितावली नामक जीवनी किसने लिखी -माधव प्रसाद मिश्र.
154.वीर अभिमन्यु नाटक -राधेश्याम कथा वाचक.
155.सबसे बडा आदमी रचना है-भगवती चरण वर्मा.
156.काशी मे तुलसी ने किस गुरु के पास रहकर विद्याध्यन किया- शेष सनातन.
157.विद्यापति को कहा जाता है -शुद्ध शृंगारी कवि.
158.आदीकाल का प्रारंभ हुआ- 650 ई. में.
159आदीकाल को मिश्र बन्धु ने कहा – प्रारंभिक काल.
160.राहुल सांकृत्यायन ने आदिकाल को – सिद्ध सामन्तकाल कहा.
161.रीतिकाल को विश्वनाथ प्रसाद मिश्र ने  कहा श्रंगारकाल.
162.रीतिकाल को अलंकृतकाल कहा है- मिश्र बन्धु ने.
163.भारतेन्दु युग का नाम भारतेन्दु हरिश्चंद्र के नाम पर रख गया.
164.महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम पर द्विवेदी युग का रखा गया .
165.सरहपा की रचना है दोहा कोष.
166.विद्यासागर की संस्कार रचना है- लिखनवली.
167.खादी के फूल, सूत की माला ,मिलन आदि कृतियाँ – हरीवंश राय बच्चन.
168.विद्यापति को सर्वप्रथम रहस्यवादी कवि किसने कहा -ग्रियर्सन.
169.प्रचीन पंडित और कवि कृति है-महावीर प्रसाद द्विवेदी.
170.साह सिकंदर जल में बोरे, बहुरि अग्नि परजारेकिसकी पंक्ति है-धर्मदास.
171प्रसाद की पुरस्कार कहानी का प्रकाशन  हुआ – 1936.
172.विद्यापति को शृंगार रस का सिद्धवाक् कवि  कहा -हजारी प्रसाद द्विवेदी.
173.अवधू गगन मण्डल घर कीजै पंक्ति है कबीर.
174.भृंग भृंगी संवाद मिलता है- कीर्तिलता.
175.विद्यापति ने अपनी किस रचना में जौनपुर नगर का वर्णन किया है -कीर्तिलता.
176.पदावली के शृंगारिक पदोँ की मादकता को नागिन की लहर कहा निराला.
177.अकाल पूरूष नागार्जुन की जीवनी का नाम.
178.नारी तुम केवल श्रद्धा हो’पक्ति है -प्रसाद.
179.आदि कवि. मूल नाम है -वाल्मीकि.
180.अभिनव जयदेव कहते है विद्यापति को.
181 हिंदी का प्रथम कवि.- सरहपा.
182.प्रथम सूफी कवि.-असाइत.
183.जड़िया कवि है नंददास.
184.वात्सल्य रस सम्राट -सूरदास.
185.हिंदी का जातीय कवि.- तुलसीदास.
186.कठिन काव्य का प्रेत हैं-केशवदास.
187.पुराने पंथ का पथिक-मतिराम.
188.प्रेम की पीर का कवि – घनानंद.
189.हिंदी नवजागरण का अग्रदूत- भारतेंदु.
190.अपभ्रंश का वाल्मीकि स्वयंभू को कहते.
191. आधुनिकता के जन्मदाता-भारतेंदु.
192.नियम नारायण शर्मा- द्विवेदी.
193.कवि सम्राट.-अयोध्या सिंह उपाध्याय.
194.राष्ट्र कवि.-मैथिलीशरण गुप्त.
195.कठिन गद्य का प्रेत. -अज्ञेय.
196.कवियों का कवि-शमशेर बहादुर सिंह.
197.बुंदेलखंड का चंदरबरदाई- वृंदावन लाल वर्मा.
198.मुनिमार्ग के हिमायती-रामचंद्र शुक्ल.
199.स्वच्छंदतावादी आलोचक- नंददुलारे वाजपेयी.
200.रसवादी आलोचक-नगेंद्र.
201 मैथिल कोकिल-विद्यापति.
202.हिंदुस्तान की तुती. -अमीर खुसरो.
203.कल्लू अल्हइत.-म. प्र. द्विवेदी.
204.आधुनिक कविता के सुमेरू जयशंकर प्रसाद.
205.अष्टछाप/पुष्टिमार्ग का जहाज- सूरदास.
206.जबाँदानी का दावा रखने वाला कवि घनानंद.
207.प्रकृति का सुकुमार कवि. -सुमित्रा नंदन पंत.
208.आधुनिक मीरा -महादेवी वर्मा.
209.एक भारतीय आत्मा.-माखन लाल चतुर्वेदी.
210.फैंटेसी का कवि. -मुक्तिबोध.
211.कलम का सिपाही – प्रेमचंद.
212.कलम का मजदूर-प्रेमचंद.
213.भारत का मैक्सिम गोर्की- जैनेन्द्र.
214.गद्य-काव्य का लेखक-वियोगी हरि.
215.आधुनिक कबीर-नागार्जून.
216.हिंदी साहित्य वस्तुनिष्ठ भाग -70.
217.केशव को  कहते है काव्य का प्रेत .
218.कठिन गद्य का प्रेत अज्ञेय को है कहते.
219.निराला है आधुनिक काव्य के प्रेत.
220.हिन्दी का मोंटेन  -बालकृष्ण भट्ट.
221.हिन्दी का स्टील -बालकृष्ण भट्ट.
222.हिन्दी का एडीसन-प्रताप नारायण  मिश्र.
223.हिन्दी का वुड्सवर्थ -सुमित्रा नन्दन पन्त.
224.आचार्य शुक्ल हैं निबंध – सम्राट.
225.शिवशंभू- बाल मुकुंद गुप्त.
226.अधैर्य कवि -दिनकर.
227.अनल कवि -दिनकर.
228.राष्ट्रीय जागरण व भारतीय संस्कृति का कवि -दिनकर.
229.भारतेंदु व द्विवेदी काल की
योजक कड़ी-बाल मुकुंद गुप्त.
230.आधुनिक भूषण नूप शर्मा.
231.ब्रजभाषा कोकिल-सत्य नारायण कविरत्न.
232.त्रिशूल -गया प्रसाद शुक्ल स्नेही.
233.स्वच्छंदतावाद के प्रवर्तक- श्रीधर पाठक.
234.कवि सम्राट -हरिऔध.
235.कविता कामिनी कांत-नाथूराम शर्मा शंकर.
236.भारतेंदु प्रज्ञेंदु -ना.श.शंकर.
237.साहित्य सुधारक-ना.श. शंकर.
238.छायावाद का शलाका पुरुष हैं- निराला.
239.प्रयोगवाद व नयी कविता का शलाका पुरुष – अज्ञेय.
240.शंकर-नाथूराम शर्मा शंकर.
241.शापित मुरारीलाल गोयल -शापित.
242शिलीमुख -रामकृष्ण शुक्ल
243.शिशु -शिशुपाल सिंह .
244.शीतांशु- पांडेय शशिभूषण शीतांशु.
245.सरल कहते है- श्रीकृष्ण सरल.
246.अपराजिता (काव्य) है -रामेश्वर शुक्ल अंचल.
247.अपराजिता उपन्यास -चतुरसेन शास्त्री.
248.नीली झील  कहानी है कमलेश्वर की.
249.नीली झील एकांकी धर्मवीर की.
250.अर्धनारीश्वर विष्णु प्रभाकर का है- उपन्यास.
251.अर्धनारीश्वर  निबंध हैं -दिनकर.
252.एक पति के नोट्स उपन्यास  है- महेंद्र भल्ला.
253.ममता कालिया का उपन्यास है – एक पत्नि के नोटस.
254.एक कस्बे के नोट्स उपन्यास है नीलेशरघुवंशी.
255.वे शब्द जो संस्कृति से सीधे बिना किसी बदलाव के आये कहलाते है- तत्सम कहलाते है.
256.संस्कृति से हिंदी में बदलाब हो वह शब्द – ततद्भ  कहलाते है.
257.क्षेत्रीय प्रभाव में आने के कारण बने शब्द कहलाते है – देशज.
258.प्रयोग के हिसाब से होते है शब्द के – 8 भाग.
259.शब्दों को 2 भागों में बांटा गया है – विकार की दृष्टि से.
260.हिंदी में पद होते है- पाँच.
261.लिंग के होते है प्रकार- 2.
262. आठ प्रकार होते है कारक के.
263. विशेषण के होते है भेद – चार.
264.चार होते शब्द रचना के प्रकार.
265.वे शब्दांश जो किस शब्द के आरंभ में लगे कहलाते है- उपसर्ग.
266.शब्दांश जो अंत मे लगकर अर्थ बदल देते  है-प्रत्यय .
267.स्वर सन्धि के होते है पांच प्रकार.
268 ज्ञान देने वाली कहलाती है- ज्ञानदा.
269.लाल पीला होना का अर्थ है- क्रोध करना.
270. मुहावरा शब्द अरबी के मुहावर से लिया गया.
271.विराम चिन्हों की संख्या होती है 13.
272. पदबन्ध के होते है प्रकार पाँच.
273. वाक्य के छः होते है – अनिवार्य तत्व.
274. खग का समोच्चय शब्द है पंक्षी.
275. अपकार का बुराई है – समोच्चय शब्द.
276. जिसमे मध्य पद लुप्त हो -मध्यपदलोपी.
277.जिसमे पूर्व पद विशेषण न हो- व्यधिकरण.
278.नीला है कंठ जिसका कहलाते है शिव.
279. धर्म की आत्मवाला कहलाता है धर्मात्मा.
280. जिसमे दोनों पदों को छोड़कर तीसरा पद प्रधान हो – बहुव्रीहि समास.
281.द्विगु समास  भेद है कर्मधारय का .
282. समाहार व समहू के बोध होता है- द्विगु समास में.
283.दोनों पद प्रधान हो कहलाते है- द्वंद समास.
284.द्वंद समास के भेद होते है तीन.
285. ओर से जुड़े होते है – इतरेतर द्वंद.
286. वैकल्पिक द्वंद में जुड़े होते दोनों पद- या , अथवा से.
287.चावल – दाल उदहारण है – समाहार द्वंद का.
288.यथाविधि में आया है- अव्ययीभाव समास.
289.सेनापति में समास है- सम्बंध तत्पुरुष.
290. दानवीर उदहारण है- अधिकरण का.
291.निःशुल्क में है विसर्ग सन्धि.
292.सुरेन्द्र में है- गुण सन्धि.
293. रति का स्थायी भाव-भववद हैं
294. भक्ति रस का उद्दीपन है – मंदिर
295.वात्सलय का संचारी भाव है- स्नेह .
296. मन से उतपन्न होने वाले विकार है- मानसिक.
297. रसों की संख्या होती है- 9
298.निर्वेद स्थायी भाव है- शान्त का.
299.श्रंगार रस के होते है 2 प्रकार.
300. भाषा के होते रूप है- दो.

Rate This Department

Updated: April 14, 2019 — 11:56

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *